• No products in the cart.

Crazy Kids

पोषण से भरपूर गर्मी के ये 4 fruits

Summer के दिन शुरू हो गए है। बच्चे भी इस कोरोना के कारण घर पर एक साल से बंद है ।  सामान्य दिवसो मे हम गर्मी Summer के दिनो मे आम, तरबूज, गन्ना , द्राक्ष , पपीता खाना  पसंद कराते है । परंतु इन दिनों मे ओर भी बहुत कम जाने हुये फल मिलते है जो भी सेहत के लिये  बहुत फायदेमंद है ।  शहतूत, फालसा, रायन, गोरखईमली  आदि ये Fruitsभी हमे बच्चों को खिलाने चाहिये। ये सामान्य लगने वाले fruit भी विविध रूप से शरीर को लाभ देते है । इन के लाभ यहाँ बताए है। आयुर्वेद के माध्यम से हम इन Fruits के बारें में जाने। 

शहतूत (mulberry) Shahtoot

Mulberry

शहतूत का Fruit खाने में जितना स्वादिष्ट होता है उतना सेहतमंद भी आयुर्वेद में शहतूत के ढेरों फायदों का बखान है. शहतूत में पोटैशियम, विटामिन A और फॉस्फोरस प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। आमतौर पर शहतूत दो प्रकार के होते हैं  हरे ओर काले । काले तथा लाल शहतूत एक ऐसा fruit है जिसे कई लोग कच्चा ही खाना पसंद करते हैं और कुछ पक जाने पर।

शहतूत के आयुर्वेदीय गुण-कर्म एवं प्रभाव ये हैं  :

शहतूत मधुर,  कषाय,  अम्ल,  शीत,  पित्तवातशामक, वृष्य,  बलकारक,  दाह-प्रठीक,  दीपन,  ग्राही और वर्णकारक होता है। यह दाह और रक्तपित्तनाशक होता है। इसका पक्व फल मधुर शीत गुरु और पित्तवातशामक होता है। इसका पक्का फल बलकारक, वर्णकारक, अग्निवर्धक, मलरोधक और रक्तविकार-शामक होता है। इसका अपक्व फल गुरु, सर, अम्ल, उष्ण और रक्तपित्तकारक होता है। इसकी छाल (छाल्) कृमिनिसारक, विरेचक, वेदनाहर, मूत्रल, कफनिस्सारक, शोथहर, प्रशामक, आक्षेपहर और बलकारक होती है।

शहतूत फल खाने के फायदे :- Benefits of Mulberry fruit

  • शहतूत खाने से पाचन शक्ति अच्छी रहती है. ये सर्दी-जुकाम में भी बेहद फायदेमंद है.
  • यूरि‍न से जुड़ी कई समस्याओं में भी शहतूत बेहद फायदेमंद होता है.
  • शहतूत खाने से आंखों की रोशनी बढ़ती है. ये बढ़ती उम्र के लक्षणों को जल्दी आने से भी गर्मियों में शहतूत के सेवन से लू लगने का खतरा कम हो जाता है.
  • शहतूत खाने से लीवर से जुड़ी बीमारियों में राहत मिलती है. साथ ही यह किडनी के लिए भी बहुत फायदेमंद है.
  • शहतूत के पत्तों को घाव या फोड़े पर लगाना भी फायदेमंद होता है. इसके प्रयोग से घाव बहुत जल्दी भर जाते हैं.
  • आपको खुजली की दिक्कत है तो तो इसके पत्तों का लेप फायदेमंद रहेगा.
  • शहतूत की पत्तियों को पानी में उबालकर उस पानी से गरारे करने से गले की खराश दूर हो जाती है ।
  • 5-10 मिली शहतूत की जड़ की छाल का काढ़ा पिएं। इससे पेट के कीड़े खत्म हो जाते हैं।
  • 1 ग्राम शहतूत की छाल के चूर्ण में शहद मिलाकर चांटें इससे पेट के कीड़े निकल जाते हैं।
  • शहतूत के फल के रस में कलमी शोरा को पीस लें। इसे नाभि के नीचे लेप करें। इससे मूत्र रोग जैसे पेशाब करते समय जलन होना, पेशाब रुक-रुक कर होने आदि में फायदा मिलता है।
  • कई पुरुष या महिलाओं को शरीर में जलन की शिकायत रहती है। शरीर की जलन होने पर शहतूत के फलों का शर्बत बनाकर पिएं। इससे जलन खत्म होती है। अधिक लाभ के लिए किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श लें।
  • अधिक प्यास लगने की समस्या में शहतूत के फलों का शर्बत बनाकर पिएं। इससे अत्यन्त प्यास लगने की परेशानी में बहुत फायदा होता है।
  • शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए सूखे हुए शहतूत के फलों को पीसकर आटे में मिला लें। इसकी रोटी बनाकर खाएँ। इससे शारीरिक कमजोरी खत्म होती है, और शरीर स्वस्थ बनता है।
  • टॉन्सिल के कारण व्यक्ति को कुछ भी खाने-पीने में दिक्कत होने लगती है। आप टॉन्सिल की समस्या में शहतूत के फलों का शर्बत बनाकर पिएं। इससे टॉन्सिल (कण्ठमाला) रोग में लाभ होता है।

गोरखचिंच (गोरखइमली)

Gorakh imli

गोरखचिंच (गोरखइमली) Fruit के औषधीय गुण गोरक्षी तिक्त, मधुर, शीत, पित्तशामक, विस्फोट, अतिसार, दाह और बुखार ठीक करती है। इसकी फल-मज्जा स्भंक, वेदनाशामक और स्वेदक होती है। इसके पत्ते स्वेदक, शोथहर, बलकारक, वमनहर, स्तम्भक और मृदुकारक होते हैं। इसका काष्ठ पूयरोधी और ज्वरघ्न होता है।

 गोरखइमली फल खाने के फायदे :- Benefits of Gorakhimli fruit

  • सिर दर्द में गोरखचिंच के औषधीय गुण से फायदा मिलता है। गोरखचिंच की छाल का काढ़ा बना लें। 15-20 मिली को पीने से सिर दर्द ठीक होता है।
  • गोरखइमली fruit के पत्ते के रस से कान के दर्द और सूजन में फायदा होता है। आप गोरखइमली के पत्ते को मसलकर रस निकल लें। इसे 1-2 बूंद कान में डालें। इससे लाभ होता है।
  • दांत में दर्द हो तो गोरखइमली fruit का औषधीय गुण फायदेमंद होता है। गोरखइमली के बीज का काढ़ा बना लें। इससे कुल्ला करने से दांत का दर्द तो ठीक होता ही है, साथ ही मसूड़ों की सूजन भी कम होती है।
  • दमा रोग में गोरखचिंच के सेवन से लाभ होता है। 1-2 ग्राम गोरखइमली फलमज्जा के चूर्ण का सेवन करने से सांसों के रोग में लाभ होता है।
  • गोरख इमली के पत्ते और फूल का काढ़ा बनाकर रख लें। 10-15 मिली काढ़ा का सेवन करने से साँस से सम्बन्धित बीमारियों में लाभ होता है।
  • 2-4 ग्राम गोरख इमली के फल fruit के चूर्ण में सूखे अंजीर फल का चूर्ण मिला लें। इसे खिलाने से दमा रोग में लाभ होता है।
  • गोरक्षी के औषधीय गुण से मूत्र रोग में लाभ मिलता है। 15-20 मिली गोरक्षी की छाल का काढ़ा बना लें। इसमें 60 मिग्रा यवक्षार (यवाखार) डालकर पिएं। इससे मूत्र में जलन और रुक-रुक कर पेशाब आने की समस्या में फायदा होता है।
  • गोरक्षी के पत्तों का काढ़ा बनाएं। इसे जल में मिला लें। इस जल से स्नान करने पर मूत्र मार्ग और प्रजनन-तंत्र सम्बन्धित बीमारियों में लाभ होता है।
  • गठिया एक गंभीर बीमारी है। आप गोरखइमली के फायदे गठिया रोग में भी ले सकते हैं। गोरखइमली के पत्तों को पीस लें। इसका बीमारी वाले अंग पर लेप करें। इससे गठिया में लाभ होता है।
  • गोरखइमली का औषधीय गुण से सूजन को कम कर सकते हैं। इसके लिए गोरखइमली के पत्तों का काढ़ा बना लें। इससे बीमार अंग पर सिकाई करें। इससे सूजन कम हो जाती है।
  • गोरखइमली के पत्तों या फल की गिरी को पीसकर त्वचा पर लगाएं। इससे रोग ठीक हो जाता है। ध्यान रखें कि गोरखइमली को बीमार अंग पर लेप के रूप में लगाना है।
  • गोरखइमलीके सूखे पत्तों को महीन पीस लें। इसे शरीर पर मलने से पसीने से आने वाली बदबू खत्म हो जाती है।

फालसा :- Phalasa

phalasa

फालसा fruit में एंटीऑक्सीडेंट तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं जो शरीर को इंफेक्‍शन से बचाते हैं. इसमें मौजूद मैग्नीशियम, पोटैशियम, सोडियम, फास्फोरस, कैल्शियम, प्रोटीन,  विटामिन A और विटामिन C  जैसे पोषक तत्व हमारे शरीर में पोषक तत्‍वों की कमी को पूरा करते हैं.

गर्मी Summer के मौसम स्‍वास्‍थ्‍य समस्याओं को दूर करने के लिए फालसे के रस का सेवन करना शरीर के लिए टॉनिक का काम करता है. यह पित्त की समस्याओं को दूर करता है ।

फलसा फल खाने के फायदे :- Benefits of Phalasa fruit

  • Vitamin C और खनिज तत्वों से भरपूर फालसा fruit के सेवन से ब्‍लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल का लेवल कंट्रोल में रहता है
  • फालसा में रेडियोधर्मी क्षमता भी होती है. इस कारण यह कैंसर से लड़ने में भी शरीर को सहायता करता है ।
  • एनीमिया रोग हो गया है तो इसे खाने से शरीर में हीमोग्लोबिन बढ़ता है और एनीमिया से बचाव होता है ।
  • गर्मी के मौसम में अक्‍सर लू लगने के कारण बुखार जैसी बीमारियां हो जाती हैं. इनसे बचने के लिए इस fruit का सेवन करना लाभदायक होता है.।
  • Vitamin C से भरपूर फालसे का खट्टा-मीठा रस खांसी-जुकाम को रोकने और गले में होने वाली समस्याओं से निजात पाने के लिए काफी प्रभावशाली है. ।

रायन (Rayan)( khirni )

rayan

गर्मी Summer के मौसम में मिलने वाला Fruit रायन एक बहुत स्वादिष्ट, मीठा, पीले रंग का फल है । Rayan (Khirni) एक स्वादिष्ट Summer Fruit है । रायन Vitamin, Minerals, Protein, Fat, Carbohydrate, Antioxidant जैसे पोषक तत्व से भरा है और हमारे समग्र स्वास्थ्य के लिए जबरदस्त लाभ प्रदान करता हैं। ये गूदेदार fruit माइक्रोबियल त्वचा संक्रमण को रोकते हैं, कैंसर को रोकते हैं, पेट के अल्सर को शांत करते हैं और इम्यून फंक्शन को ठीक करते हैं।

रायन फल खाने के फायदे :-  Benefits of Ryan fruit

  • रायन मे Vitamin A भरपूर मात्रा में पाया जाता है और यह आंखों को सेहत मंद बनाए रखने में सहायता करता है.
  • रायन में ग्लूकोज पाया जाता है जो शरीर को तुरंत एनर्जी देने का काम करता है.
  • रायन में Vitamin A और बी अच्छी मात्रा पायी जाती है जो कैंसर के खतरे से बचाता है. इसमें Antioxidant, फाइबर और अन्य पोषक तत्व भी पाए जाते हैं जो कैंसर सेल्स को बनने से रोकते हैं. अगर आप अपनी हड्डियों को मजबूत बनाना चाहते हैं तो रायन के मौसम मे इसे जरूर खाये । इसमें Calcium, Phosphorus, और Iron की भरपूर मात्रा होती है जो हड्डियों को मज़बूत करती है। कब्ज से राहत पाने के लिए रायन खाना सबसे अच्छा उपाय है.।
  • इसमें मौजूद फाइबर कब्ज से राहत दिलाता है और अन्य संक्रमण से लड़ने की शक्ति देता है.
  • रायन में कई एंटी-वायरल, एंटी- पैरासेटिक और एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं जो शरीर में बैक्टीरिया को आने से रोकते हैं ।
  • यह फल Fruit दिमाग को शांत रखने में बहुत मदद करता है और तनाव को कम करने में भी मदद करता है. ।
  • सर्दी और खांसी के लिए रायन रामबाण का काम करता है और यह पुरानी खांसी से भी राहत देता है।
  • रायन के फल Fruit के बीज को पीस कर खाने से गुर्दे की पथरी यूरिन के साथ निकाल जाती है. साथ ही यह गुर्दे के रोगों से भी बचाता है. ।
  • रायन में लेटेक्स अच्छी मात्रा मे पाया जाता है इसलिए यह दांतों की कैविटी को भरने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है ।

इस तरह इन फलो Fruits के उपयोग से भी हम स्वास्थ्य का लाभ ले सकते है । तथा खाने में फलों Fruits की विविधता का आनंद भी ले सकते है ।

 

Dr. Hardik Bhatt

आप को अपने बच्चें के स्वास्थ्य संबंधी कोई भी समस्या हो तो आप हमे निचे दिए गए E – Mail पर संपर्क कर सकते है | हमारे अनुभवी Doctor आप के बच्चे की समस्या का योग्य निदान करेंगे |

E – Mail : hello@crazykids.in

Comments

  • Chandni Trivedi
    April 24, 2021

    Very useful article for kids…Nice information💖

    Reply
  • Karuna Trivedi
    April 29, 2021

    शहतूत और फालसा जैसे फल कम हो दिखाई देते है । स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छी जानकारी दी है।

    Reply
  • Arti parmar
    April 29, 2021

    Very useful and good for health….

    Reply
  • Arti parmar
    April 29, 2021

    Good for health

    Reply
  • Arti parmar
    April 29, 2021

    Tgood for health

    Reply
  • Heer Trivedi
    April 30, 2021

    Very nice article and information 👍

    Reply
  • Premila Dund
    May 3, 2021

    Very nice information for kids

    Reply

Post a Comment